आसोतरी


 

आसोतरी: एक आयुर्वेदिक रत्न

1. आसोतरी के फायदे:

  • आसोतरी के झाड़ का चांडनार के झाड़ से मिलता है, जिसके पान चांडनार के पान जैसे मूत्रपिंड की तरह जाड़ा और मोटा होता है।
  • इसकी छाला दोरड़ों को बनाने में उपयोग होता है, और इसे बीडी बनाने में भी काम आता है।

2. आसोतरी के फूल का चूर्ण:

  • आसोतरी के फूलों का उकाळा या चूर्ण, 1-1 चमची जमती करने से पहले लेने से मर्ज के लिए फायदेमंद हो सकता है, जैसे कि मरोड़ और झाड़े में।

3. पेशाब के रोगों में लाभ:

  • आसोतरी के पान का रस पेशाब, पेशाब की गरमी और परमिया में लाभकारी हो सकता है।

4. आसोतरी का लेप:

  • यदि शरीर पर सोजा चढ़ा हुआ है, तो आसोतरी के पान को पानी में भिगोकर लेप बनाएं, और इसे गले के ऊपर और मुंह के चरम पर लगाएं।

सावधानियां:

  • इसका सेवन सतर्कता के साथ किया जाना चाहिए, और आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए, विशेषकर गर्भवती और नर्सिंग महिलाओं के लिए।

आसोतरी, आयुर्वेद में एक महत्वपूर्ण औषधि के रूप में मानी जाती है और इसका सही सेवन स्वास्थ्य के कई पहलुओं में मदद कर सकता है।